No menu items!
Sunday, August 14, 2022
HomeविदेशShree lanka श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने झोला उठाकर देश छोड़ा

Shree lanka श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने झोला उठाकर देश छोड़ा

Shree lanka संकटग्रस्त श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे देश छोड़कर भाग गए हैं। एएफपी समाचार एजेंसी ने अधिकारियों के हवाले से यह खबर दी है। वह किस तरह भागने में कामयाब रहे, अभी इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है।हाल ही में राष्ट्रपति भवन पर प्रदर्शनकारियों के कब्जे के बाद राजपक्षे यहां से भागकर अज्ञात जगह चले गए थे। उनके इस्तीफे का आज आधिकारिक एलान होना था। गोतबाया राजपक्षे का हस्ताक्षरित इस्तीफा एक वरिष्ठ अधिकारी को सौंप दिया गया था जो इसे संसद अध्यक्ष को सौंपेंगे। 13 जुलाई यानी आज इसकी औपचारिक घोषणा होनी थी। श्रीलंका में सड़क पर विरोध को देखते हुए अब सर्वदलीय सरकार बनने पर मंत्रिमंडल इस्तीफा दे दिया है।

इससे पहले श्रीलंका के पूर्व वित्तमंत्री और राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के छोटे भाई बासिल राजपक्षे की देश छोड़कर भागने की कोशिश नाकाम रही। बासिल को कोलंबो हवाई अड्डे के वीआईपी टर्मिनल से देश छोड़कर भागने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन एक आव्रजन अधिकारी ने उन्हें पहचान लिया और उनकी यात्रा को क्लीयरेंस देने से इनकार कर दिया।

बताया जा रहा है कि वह दुबई या अमेरिका भागने की कोशिश में थे। वह सुबह 12:15 बजे चेक इन काउंटर पर पहुंचे और वहां 3:15 बजे तक रहे। उन्हें एयरपोर्ट पर लोगों के पहचान लिया और आव्रजन अधिकारी के क्लीयरेंस देने से मना करने पर उन्हें हवाई अड्डा छोड़कर वापस लौटना पड़ा। बता दें कि देश में शक्तिशाली राजपक्षे परिवार के खिलाफ जन आक्रोश को देखते हुए 71 वर्षीय बासिल ने पहले ही वित्तमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

एक वक्त का भोजन भी मुहाल

श्रीलंका में हालात इतने खराब हो गए हैं कि एंबुलेंस चलाने के लिए भी डीजल-पेट्रोल नहीं बचा है। एंबुलेंस सेवा ने जनता से कॉल न करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि हम सेवा देने में असमर्थ हैं। लोगों को एक वक्त का खाना भी अच्छे से नहीं मिल पा रहा है। खाने-पीने वाले उत्पादों के दाम कई गुना बढ़ चुके हैं। दाल की कीमतें तीन गुना बढ़ चुकी हैं। हालात इतने नाजुक हैं कि यहां भुखमरी और कुपोषण जैसे हालात पैदा हो रहे हैं।

 

कार-बाइक छोड़ साइकल पर आए लोग

श्रीलंका में ईंधन की कमी के चलते लोग पेट्रोल पंपों पर कतार में लगे रहते हैं। बड़ी संख्या में लोग अपने दैनिक आवागमन में कार-बाइक छोड़कर साइकिल पर आ गए हैं। स्थानीय लोग अक्सर कार्यालयों और कॉलेजों में साइकिल की सवारी करते देखे जा सकता हैं। लोगों का कहना है कि न तो वे मौजूदा कीमत पर तेल खरीद सकते हैं और न ही उनके पास लंबी कतारों में खड़े होने का समय है।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES