No menu items!
Saturday, August 13, 2022
Homeमध्य प्रदेशलोकतंत्र की उड़ती धज्जियां, हद पार कर बांधना चाहते हैं जीत का...

लोकतंत्र की उड़ती धज्जियां, हद पार कर बांधना चाहते हैं जीत का सेहरा

जिला ब्यूरो/ मनोज सिंह

 

लोकतंत्र की उड़ती धज्जियां, हद पार कर बांधना चाहते हैं जीत का सेहरा

उम्मीदवारों, समर्थकों को दी जा रही धमकियां, समर्थन की फर्जी पोस्टों ने मतदाताओं को किया भ्रमित

सहमा सहमा है वार्डों का मतदाता, चुप्पी से आ रही विरोध की बयार
टीकमगढ़। राजनीति में अपराधिकरण और अपराधिकरण में राजनीति का गठजोड़ इन दिनों नगर पालिका और नगर परिषद चुनाव में खुलकर देखा जा रहा है। उम्मीदवार हैं कि चुनाव जीतने के लिये किसी भी हद को पार करने में नहीं झिझक रहे हैं। अपराधियों और दबंगों के आगे प्रशासन ने भी लगभग घुटने टेक दिये हैं, जिससे मतदाता भी पेशोपेश में है। यदि कारी नगर पंचायत के उम्मीदवार छक्की लाल कुशवाहा की गिरफ्तारी का मामला छोड़ दिया जाए, तो प्रशासन अब तक किसी भी इलाके में अवैध शराब पकडऩे में कामयाब नहीं हुआ है, जबकि अधिकांश इलाकों में लोग खुले आम झूमते नजर आ रहे हैं। नगर के संवेदनशील इलाकों में गिने जाने वाले तालदरवाजा, पुरानी टेहरी, राजमहल रोड, बाहर कोट, बानपुर दरवाजा, कुमैदान मुहल्ला, मोटे का मुहल्ला सहित अनेक इलाकों में पुलिस गश्त में ढील सी बनी हुई है। पुलिस की उदासीनता और लापरवाही की शिकायतें भी ऊपर तक की जाने लगी हैं। वरिष्ठ अधिकारियों से सुरक्षा में लापरवाही करने वालों पर शिकंजा कसने और चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने पर जोर दिया जा रहा है। हाल ही में एक उम्मीदवार के परिवार को धमकियां देने का वीडियो वायरल होने के बाद से इस वार्ड के लोगों में दहशत का माहौल बनने लगा है। वहीं शराब के नशे में चूर अपराधियों द्वारा गाली गलौज करने तथा अभद्रता करने के मामले सामने आ रहे हैं। पुलिस सडक़ों पर होने वाले उपद्रव से बेखबर होकर रिपोर्ट आने का इंतजार करती रही है। कोतवाली सहित इसके आसपास देर रात तक पियक्कड़ों का हुजूम लगा रहता है। चुनाव के दौरान शराब की नदियां बहने लगी है और किसी को कानों कान भनक तक नहीं लग रही है। सूत्रों का कहना है कि यूपी से आने वाली शराब की पकड़ा धकड़ी करने में भी अब तक कोई खास कामयाबी नहीं मिली है। इतना ही नहीं चुनाव जीतने के लिये उम्मीदवार फेशबुक पर फर्जी पोस्टों का भी सहारा लेने लगे हैं। एक मामला पलेरा के वार्ड 10 के कांग्रेस उम्मीदवार को लेकर सामने आया है। यह पोस्ट किसी सुनील खटीक के नाम से पोस्ट की गई है। जिसमें फोटों पूर्व मंत्री हरिशंकर खटीक के भाई सुनील खटीक की है। कहा तो यही जा रहा है कि यह षड्यंत्र जानबूझ कर रचा गया है। जबकि कांग्रेस उम्मीदवार ने यहां कोई समर्थन नहीं दिया है, वह अपना प्रचार करने में लगे हैं। कांग्रेस उम्मीदवार को लेकर डाली गई पोस्ट में उम्मीदवार के समर्थन देने की बात कही गई है, जबकि उम्मीदवार और उनके परिजनों ने किसी प्रकार के समर्थन से साफ इंकार किया है। इतना ही नहीं किस तरह उम्मीदवारों के नाम वापिस कराये गये और किस तरह चुनाव जीतने के लिये हथकंडे अपनाये जा रहे हैं, उन्होंने सभी पुराने कीर्तिमान ध्वस्त कर दिये हैं। लोकतांत्रिक प्रणाली का मजाक उड़ाने में और राजनीति में अपराधीकरण कराने में पार्टियों ने किसी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ रखी है। कई स्थानों पर दबंगों की निजी प्रतिष्ठा दाव पर लगी होने से वह भी मुकाबला जीतने के लिये कोई कसर बाकी नहीं छोडऩा चाहते है। आज जिले की इकलौती नगर पालिका के चुनाव को लेकर अटकलों का बाजार गर्म बना हुआ है। इस चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही दलों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। भितरघातियों, बागियों एवं षड्यंत्रकारियों के चक्रव्यूह में फंसे उम्मीदवारों की हालत भी परिणामों को लेकर कुछ संतोष जनक नहीं है। प्रशासन का दावा है कि चुनाव में किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं होने दी जाएगी, लेकिन लोगों में व्यवस्थाओं को लेकर चिंता बनी हुई है। अब देखना है कि अपराधियों और दबंगों के बीच होने जा रहे इन चुनावों में प्रशासन कहां तक मजबूती से खड़ा रहता है। यदि प्रशासनिक दावों पर भरोसा करें तो उम्मीद है कि नगर सहित आसपास के चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो सकेंगे।
यहां जानकारी के लिये बता दें कि इकलौती नगर पालिका के लिये 27 वार्डों में मतदान किया जायगा। जहां आज बूथों पर प्रशासनिक स्तर पर सभी इंतजाम कर लिये गये हैं। अधिकारी और कर्मचारियों ने मतदान केन्द्रों का जायजा लेकर सभी कर्मचारियों को निर्देश दिये हैं कि किसी प्रकार की गड़बड़ी न होने पाये।
बीजेपी प्रत्याशी के भाई के खिलाफ मामला दर्ज
नगर पालिका के वार्ड क्रमांक 20 में पार्षद का चुनाव अब घातक मोड़ पर पहुंच चुका है। जिला मुख्यालय पर एक महिला प्रत्याशी को इस तरह खुलेआम की जानलेबा धमकी दिए जाने से पुलिस की निष्क्रियता, दबंगो व आपराधिक तत्वों के बेखौफ होने और लापरवाह पुलिसिंग का प्रत्यक्ष प्रमाण देखने को मिल रहा है। वार्ड 20 से निर्दलीय प्रत्याशी बंदना बादल के पति मानस बादल व भाई अरविंद खेबरिया को भाजपा प्रत्याशी के भाई द्वारा जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस ने ऊक्त मामले में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वार्ड 20 निर्दलीय महिला प्रत्याशी बंदना मानस बादल ने ऑडियो रिकार्डिंग सहित कोतवाली पुलिस को दिए लिखित आबेदन में बताया कि आरोपी ने बंदना के पति मानस बादल व भाई अरविंद खेबरिया को फ ोन पर धमकाते हुए कहा कि अगर तुमने चुनाव लड़ा तो तुम्हारा अपहरण कर गोली मार दूंगा। साथ ही सत्ता व राजनैतिक पकड़ की भी धमकी देते हुए कहा कि पुलिस भी कुछ नही कर पायेगी। जिससे महिला पार्षद प्रत्याशी बंदना बादल व इनका परिवार किसी अनहोनी को लेकर दहशत में हैं। कोतवाली पुलिस ने ऊक्त आवेदन पर आरोपी के विरुद्ध धारा 294, 505, 506, 507, 188, 123 के तहत मामला पंजीबद्ध कर लिया है।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES