No menu items!
Sunday, August 14, 2022
Homeविचारमेरे जज़्बात को छुपाया नही जाता

मेरे जज़्बात को छुपाया नही जाता

नमक से नमक को कभी खाया नही जाता
खौफ से गलत को सही ठहराया नहीं जाता

परोस दो लज्जत दार झूठ थाली में यारों
सुना है उनसे सच अब पचाया नही जाता

थक गई है मां लोरियां गाते गाते अब
भूखे पेट बच्चों को सुलाया नही जाता

जब तय हो पहले से परिणाम इम्तेहानो के
ऐसे में नौ जवानों को पढ़ाया नही जाता

फासला दरमियां का कम हो भी तो कैसे
उनसे आया नही जाता हमसे बुलाया नही जाता।

जिन आंखों में लगा हो याद का सुरमा
उन आंखों को कभी ऐसे रूलाया नही जाता

कैसे जाऊं उनकी महफिल में सोचती हूं मैं
मुझ से मेरे जज़्बात को छुपाया नही जाता

प्रज्ञा पांडेय मनु वापी गुजरात

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES