No menu items!
Monday, September 26, 2022
Homeमध्य प्रदेशसाहब-आवास तो मिला किन्तु पानी नहीं, जायें तो जायें कहां रातों रात...

साहब-आवास तो मिला किन्तु पानी नहीं, जायें तो जायें कहां रातों रात डाले जा रहे हैं घटिया लेंटर, प्रशासन नहीं ले रहा गरीबों की सुध

 

दैनिक केसरिया हिन्दुस्तान
मनोज सिंह/ जिला ब्यूरो

बुनियादी समस्याओं का लगा अंबार, जल संकट के कारण खाली पड़े आवास

टीकमगढ़। मध्य प्रदेश सरकार लाख योजनाएं चलाये, लेकिन इन योजनाओं में बढ़ते भ्रष्टाचार और धांधली के चलते गरीबों की हालत जस की तस बनी हुई है। यहां बनाये जा रहे आवास इतने घटिया बने हैं कि यहां रहने में भी लोगों को भय होने लगा है। अधिकांश मकान खाली पड़े हैं। जो लोग मजबूरी में यहां रहने आए हैं, उनकी सुरक्षा और व्यवस्थाओं को लेकर प्रशासन पूरी तरह बेपरवाह बना हुआ है। यहां के रहवासियों ने जिला प्रशासन की मनमानी और ठेकेदारों की धांधली पर खुलकर बोलना शुरू कर दिया है। चौकानें वाली बात तो यह है कि सारे मामले में नीचे से ऊपर तक चुप्पी साधे हुये हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना यहां के जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों के लिये दुधारू गाय साबित होती आ रही है। जरूरतमंदों की अनदेखी और अपने चहेतों को लाभ देने में यहां नगर प्रशासन के हिस्सेदार पीछे नहीं हैं। लोगों ने नव नियुक्त नगर पालिका अध्यक्ष एवं जिला कलेक्टर से बीड़ी कालोनी के पास ढोगा पर बने घटिया आवासों की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई किये जाने की मांग की है।
*आवागमन की असुविधा-*
प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी अंतर्गत गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वालों के लिये आवास बनाये जा रहे हैं। इन आवासों के घटिया निर्माण ने जहां हितग्राहियों की चिंता बढ़ा दी है, तो वहीं इस योजना में हुये भ्रष्टाचार को लेकर अनेक लोगों ने शिकायतें दर्ज कराई हैं। लोगों का कहना है कि यहां आने जाने वालों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। चारों ओर गंदगी और मच्छरों का बोलबाला है। रात्रि में यहां रहने वालों में भय बना रहता है। महिलाओं ने बताया है कि यहां आए दिन जहरीले कीढ़े मकोड़े निकलने से बढ़ी अनहोनी की आशंका बनी रहती है। असुविधाओं के कारण यहां के अधिकांश आवास खाली पड़े हुये हैं। जिला प्रशासन और नगर प्रशासन की अनदेखी के चलते यहां के लोगों का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। यहां रहने वाली महिलाओं ने अपनी परेशानियों के बारे में बताया और उन्हें दूर करने की मांग की है।
*रातों रात डाले जा रहे मकानों पर लेंटर*
भगवान जाने ऐसा क्या है कि यहां के मकानों पर लेंटर डालने का काम रात में ही किया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि यहां बनाये जा रहे मकानों का लेंटर इतना कमजोर है कि कब गिर जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता। लेंटर में लगाये जाने वाले सरिया ढाई से तीन इंची तक बताये जा रहे हैं, जो कभी भी धराशाही हो सकते हैं। मकानों के निर्माण में हितग्राहियों के लिये चार दीवारों की जगह तीन दीवारे ही बनाई गई हैं। निर्माण ऐजेन्सियों द्वारा एक दीवार का पैसा सीधा हजम कर लिया है। धड़ल्ले से किये गये भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने से यहां के हितग्राहियों में नाराजगी बनी हुई है। लोगों का कहना है कि यहां रहने वालों के साथ घटिया निर्माण के कारण यदि कोई बढ़ी घटना होती है, तो उसके लिये प्रशासन जिम्मेदार होगा। रहवासियों ने रात्रि में डाले जा रहे लेंटरों की निष्पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
*तीन बोर किये गये, लेकिन पानी नहीं मिला*
प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी अंतर्गत ढोंगा के समीप बनाये गये आवासों के जहां एक ओर घटिया होने के आरोप लगाये जाने लगे हैं, वहीं दूसरी ओर यहां पानी का अभाव होने से यह आवास लोगों के लिये अनुपयोगी बताये जा रहे हैं। यहां रहने वालों ने बताया कि नगर प्रशासन द्वारा यहां तीन बोर कराये गये हैं, लेकिन तीनों हैंडपंपों में पानी नहीं निकला है। जल संकट के चलते यहां के हितग्राही मकानों में आने से कतरा रहे हैं। अधिकांश हितग्राही आज भी किराये के मकानों में रहकर अपने दिन गुजार रहे हैं। आखिर इन आवासों का उपयोग क्या है, यह न तो प्रशासन बताने को तैयार है, न ही हितग्राहियों की समझ में आ रहा है। जब यहां सडक़, पानी और बिजली की सुविधायें नहीं देना थीं, तो आवास बनाये ही क्यों गये, यह एक बढ़ा सवाल है।
*इन हितग्राहियों ने सुनाई अपनी व्यथा*
आवास कालोनी में अब तक जो गिनती के हितग्राही मजबूरी के कारण रहने आ गये हैं, उन्होंने अपनी व्यथा सुनाते हुये जिला प्रशासन से समस्याओं के निराकरण की गुहार लगाई है। जिन निवासियों ने समस्याओं का रोना रोया है, उनमें मनोहर, कमला रैकवार, मधु रैकवार, रामगोपाल वर्मा, जब्बार, सवाना, नफीसा, रामदेवी, संतोष सहित अनेक लोगों के नाम शामिल हैं। महिलाओं का कहना है कि यहां सुरक्षा के इंतजाम न होने से आए दिन चोरों का खटका लगा रहता है। एक ओर जहां चोरी की घटनायें होती हैं, वहीं दूसरी ओर यहां आए दिन सांप,ग्योरे आदि कीड़-मकाड़े निकलते आ रहे हैं। इस दिशा में ठोस कदम उठाने की जरूरत बताते हुये रात्रि में डाले जा रहे घटिया लेंटर की जांच करने पर भी जोर दिया है।
देखने के बाद ही कुछ कह सकूंगा- *एसडीएम का कहना है*
प्रधान मंत्री आवास कालोनी की समस्याओं के बारे में अभी कुछ पता नहीं है, देखने के बाद ही कुछ कह सकूंगा। यह कहना है एसडीएम श्री पटेल का। उन्होंने कहा कि अभी तक तो यह कालोनी देखी ही नहीं है कि कहां है। देखने के बाद ही इस बारे में कुछ बता सकेंगे।
*भ्रष्टाचार नहीं होने दिया जाएगा-पप्पू मलिक*
नगर पालिका को भ्रष्टाचार मुक्त करने में किसी प्रकार की कमी नहीं छोड़ी जाएगी। यदि किसी के द्वारा भ्रष्टाचार किया जाता है, तो 22 फीट की दीवार के पीछे नजर आएगा। यह कहना है नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार पप्पू मलिक का। उन्होंने अपनी मंशा पहले ही जाहिर कर दी है। अब नव नियुक्त अध्यक्ष इस कालोनी में व्याप्त कमियों को दूर करने एवं निर्माण में हो रहे भ्रष्टाचार को रोक पाने के लिये क्या कदम उठाते हैं, यह तो आने वाला समय बतायेगा।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES