No menu items!
Saturday, August 13, 2022
Homeउत्तर प्रदेशबांगरमऊ उन्नाव भोनेश्वरी मन्दिर के सामने चल रही मांस की दुकानें

बांगरमऊ उन्नाव भोनेश्वरी मन्दिर के सामने चल रही मांस की दुकानें

बांगरमऊ उन्नाव भोनेश्वरी मन्दिर के सामने गोश्त की दुकानें चल रहीं हैं बेख़ौफ शासन प्रशासन बना है अनजान।

नगर में नियमों को ताक पर रखकर बड़े छोटे जानवरों के मांस की दुकानें खुलेआम आम रास्तों और गलियों में संचालित की जा रही हैं। इन अवैध मांस की दुकानों को देखकर भी पुलिस और संबंधित अधिकारी अनजान बने हुए हैं।

प्रदेश शासन ने वर्ष 2017 में छोटे-बड़े मांस की दुकानों के संचालन के लिए 17 बिन्दुओं के तहत गाइडलाइन जारी की थी। इन नियमों का उल्लंघन करने पर मांस विक्रेता दुकानदार को जेल भी हो सकती है। नई नियमावली के अनुसार सभी प्रकार के मांस की दुकानें धार्मिक स्थल से 50 मीटर की दूरी और धार्मिक स्थल के मेन गेट से 100 मीटर की दूरी पर हों। मांस की दुकान सब्जी या मछली की दुकान के निकट नहीं होगी और दुकान के अंदर जानवर या पक्षी आदि नहीं काटे जाएंगे।

साथ ही मांस की दुकानों पर काम करने वालों को सरकारी डॉक्टर से हेल्थ सर्टिफिकेट लेना होगा।इसके अलावा मीट की क्वालिटी पशु डॉक्टर से प्रमाणित करवानी होगी।

सरकारी गाइड लाइन के अनुसार शहरी इलाकों में सर्किल ऑफिसर, नगर निगम/ नगर पालिका और फूड सेफ्टी एवं ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन से एनओसी लेनी होगी। जबकि ग्रामीण इलाकों में ग्राम पंचायत, सर्किल ऑफीसर और एफएसडीए एनओसी देंगे। मांस काटने के चाकू और दूसरे धारदार हथियार स्टील के होंगे और कूड़े के निपटारे के लिए समुचित व्यवस्था होगी। नियमावली में यह भी है कि मांस इंसुलेटेड फ्रीजर वाली गाड़ियों में ही बूचड़खाने से ढोया जाए और उसे पारदर्शी दरवाजे के फ्रीजर में ही रखा जाए। एफएसडीए के किसी मानक का उल्लंघन होते ही तत्काल लाइसेंस रद्द दर्दीली की भी व्यवस्था की गई है।

लेकिन मांस विक्रेता खुलेआम मनमाने ढंग से सार्वजनिक रास्तों पर जानवर जिबह कर मांस की बिक्री करने में जुटे हुए हैं। मांस विक्रेता अलसुबह घनी बस्ती के सार्वजनिक रास्तों में ही जानवरों को जिबह कर उसका खून नालियों में बहा रहे हैं। जिसे देखकर राहगीरों और नगर वासियों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं। इसके अलावा रक्त और मांस के अवशेष की सड़ांध से नगर में संक्रामक रोग पैर पसार सकते हैं। नगर के समाजसेवी व पत्रकार फजलुर्रहमान ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर नियमों का उल्लंघन करने वाले मांस विक्रेताओं के खिलाफ कठोर कार्यवाही किए जाने की मांग उठाई है।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES