No menu items!
Monday, September 26, 2022
Homeमध्य प्रदेशन्यायालय ने एफआईआर दर्ज करने का दिया आदेश- भाजपा नेता मनीराम तिवारी...

न्यायालय ने एफआईआर दर्ज करने का दिया आदेश- भाजपा नेता मनीराम तिवारी के बेटे ने 1 साल पहले कराई थी फ र्जी रजिस्ट्री

जिला ब्यूरो/ मनोज सिंह

पुलिस ने दर्ज नहीं किया था मामला

टीकमगढ़। पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने और आरोपियों के बचाने के मामले आये दिन सामने आ रहे हैं। अनेक फरियादी गुहार लगाते थानों के चक्कर लगा रहे हैं। पुलिस से मायूस फरियादियों को आखिर में न्यायालय की शरण लेना पड़ रही है। येसा ही एक और मामला सामने आया है, जिसमें न्यायालय से आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के आदेश जारी किये गये हैं। यह मामला कृषि उपज मंडी अध्यक्ष मनीराम तिवारी के परिवार से जुड़ा बताया जा रहा है। बताया गया है कि फ र्जी तरीके से जमीन की रजिस्ट्री कराने के मामले में न्यायालय ने भाजपा नेता व पूर्व मंडी अध्यक्ष मनीराम तिवारी के बेटे अरविंद तिवारी सहित तीन लोगों के खिलाफ  मामला दर्ज करने के निर्देश दिए हैं । मामले की शिकायत रामबाई पत्नी सीताराम यादव निवासी बड़ागांव खुर्द ने न्यायालय में की थी । केस की सुनवाई के बाद मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सपना पोर्ते ने फैसला सुनाया है । फैसले में अरविंद पिता मनीराम तिवारी, रहीस पिता मजीद खान और भुमानीदास पिता बदली अहिरवार के खिलाफ  धारा 156/ 3 में अनुसंधान कर अभियोग पत्र प्रस्तुत करने के लिए देहात थाना प्रभारी को कहा है।

क्या है मामला-

शिकायतकर्ता राम बाई यादव ने बताया कि 2 दिसंबर 2021 को अरविंद तिवारी सहित तीनों आरोपियों ने मेरे नाम का फ र्जी आधार कार्ड बनवाकर किसी अन्य महिला को रजिस्ट्रार कार्यालय ले जाकर मेरी जमीन की रजिस्ट्री करा दी थी । आरोपियों ने मेरी खसरा नंबर 263/1 रकवा 2.363 आरे जमीन फ र्जी तरीके से अरविंद पिता मनीराम तिवारी के नाम करा ली थी । इस फ र्जीवाड़े में गवाही के तौर पर रहीस पिता मजीद खान और भुमानीदास पिता बदली अहिरवार ने अपने आधार कार्ड लगाए थे । फ र्जी रजिस्ट्री की जानकारी लगते ही राम बाई यादव ने परिवर्तन पर रोक लगाने के लिए तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा था, जिसके आधार पर तहसीलदार ने नामांतरण नहीं किया था । इसके अलावा पीडि़त पक्ष ने एसपी और देहात थाना पुलिस को एफ आईआर के लिए आवेदन सौंपा था, लेकिन पुलिस ने राजनैतिक रसूख के चलते कोई कार्रवाई नहीं की।

न्यायालय ने आदेश में क्या कहा

पीडि़त पक्ष के अधिवक्ता नेत्र प्रकाश शुक्ला ने बताया कि न्यायालय ने इस मामले में अरविंद तिवारी, रईस खान और भुमानीदास अहिरवार को फ र्जीवाड़े का दोषी मानते हुए देहात थाने को मामला दर्ज करने के लिए कहा है । न्यायालय ने इस मामले को आपराधिक पंजी और सीआईएस में दर्ज करने के निर्देश दिए हैं । साथ ही अभियोग पत्र प्रस्तुत करने के लिए 10 नवंबर 2022 की तारीख निर्धारित की है ।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES