No menu items!
Wednesday, September 28, 2022
Homeमध्य प्रदेशआजीविका मिशन की दीदियों की जिन्दगी बदलना चाहता हूँ, क्योंकि उन्होंने ग्रामीण...

आजीविका मिशन की दीदियों की जिन्दगी बदलना चाहता हूँ, क्योंकि उन्होंने ग्रामीण मध्यप्रदेश की जिन्दगी बदल दी है। अब स्व-सहायता समूह से जुड़ी दीदियाँ किसी की मदद की मोहताज नहीं हैं।

मनोज सिंह

आजीविका मिशन की दीदियों की जिन्दगी बदलना चाहता हूँ, क्योंकि उन्होंने ग्रामीण मध्यप्रदेश की जिन्दगी बदल दी है। अब स्व-सहायता समूह से जुड़ी दीदियाँ किसी की मदद की मोहताज नहीं हैं।

यह बात महिला स्व-सहायता समूहों की बहनों के साथ चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही । उन्होने कहा मिशन इस उद्देश्य से आरंभ किया गया था कि महिलाओं को अधिकार भी मिलें और उनकी जिन्दगी भी बदले। “हम गरीब नहीं रहेंगे” इस प्रण का परिणाम है स्व-सहायता समूहों की सफलता। महिलाओं में क्षमता, प्रतिभा, मेहनत करने का जज्बा है हमारा उद्देश्य है कि स्व-सहायता समूह से जुड़ी प्रत्येक महिला को घर का काम और बच्चों का लालन-पालन करते हुए प्रतिमाह 10 हजार रूपए की आय हो। पिछले वर्ष स्व-सहायता समूहों के लिए 1500 करोड़ रूपये का बैंक लिंकेज उपलब्ध कराया गया था इस वर्ष 3 हजार करोड़ रूपए की बैंक लिंकेज का लक्ष्य है। समूह की दीदियाँ अपने उत्पाद को जेम पोर्टल पर अवश्य रजिस्टर कराएँ। हमारा प्रयास है कि उनके उत्पादों की भारत ही नहीं दूसरे देशों में भी माँग हो। लोकल को वोकल बनाना हमारा लक्ष्य है। मध्यप्रदेश गान, आजीविका मिशन के 13 सूत्रों पर केन्द्रित गीत और नृत्य प्रस्तुत किये गये। मुख्यमंत्री श्री चौहान को दीदियों ने राखी बांधी और 9 हजार राखियाँ भेंट की गईं। इस मौके पर प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संवाद में कहा कि “दीदियों के उत्साह को देखकर लगता है कि उनके भरोसे ही मैं मध्यप्रदेश बदल दूँगा। दीदियों द्वारा स्व-सहायता समूह के माध्यम से उद्यमिता के साथ स्वच्छता, स्वास्थ्य, पोषण, पढ़ाई-लिखाई, पर्यावरण और पंचायतों में किए जा रहे कार्य से जीवन के हर क्षेत्र में बदलाव आ रहा है। हाल ही में हुए पंचायत चुनाव में स्व-सहायता समूह की लगभग 17 हजार महिलाएँ पंच, सरपंच, जनपद और जिला पंचायत सदस्य के पदों पर निर्वाचित हुई हैं। यह बदलाव अपने आप में क्रांति है। महिलाएँ सशक्त हो रही हैं। लोक अधिकार केन्द्र, जागरूकता और महिलाओं को अपने अधिकार दिलवाने के क्षेत्र में प्रभावी कार्य कर रहे हैं। प्रदेश के प्रत्येक विकासखंड में लोक अधिकार केन्द्र स्थापित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब केवल 2 प्रतिशत ब्याज पर स्व-सहायता समूह की बहनों को ऋण मिलेगा। समय पर ऋण चुकाने की स्थिति में वे अधिक ऋण की पात्र होंगी। समूहों को जल जीवन मिशन में जल कर की वसूली, बिजली बिल की वसूली और समर्थन मूल्य पर अनाज की खरीदी जैसे दायित्व भी सौंपे जा रहे हैं। दीदियों को पंचायतों के संचालन और विकास कार्यों की गुणवत्ता पर भी नजर रखना है। साथ ही नशामुक्ति अभियान, बच्चों की शिक्षा की निरंतरता और कोविड के टीकाकरण के प्रति भी सजग रहना है उन्होंने आजादी के 75वें वर्ष में “हर घर तिरंगा” अभियान में उत्साहपूर्वक भाग लेने के लिए भी समूह की दीदियों को प्रेरित किया। कार्यक्रम में प्रदेश के सभी जिलों से मिशन की दीदियों ने वर्चुअली सहभागिता कर मुख्यमंत्री से संवाद भी किया।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES