काशी के वासी को मनाने लगी श्रद्धालुओं की भीड़, की पूजा-अर्चना
सावन सोमवार पर रखा महिलाओं सहित हजारों लोगों ने रखा उपवास
टीकमगढ़। करे अपने तन मन को गंगा सा पावन, शिव जी के चरण में सिर को झुकाएं, जपें नाम शिव का भजन उनके गायें…। शिव शंकर कैलाशी…हर हर बम-बम, हर हर महादेव के जयकारों से भगवान कूढ़ादेव का धाम गूंज उठा। शिवालय में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। भक्तों ने जलाभिषेक किया और प्रसाद चढ़ाया। लोगों ने भगवान के दर पर माथा टेका और प्रार्थना की। सावन के पहले सोमवार को यहां मेला लगा रहा। स्वयं भगवान भोलेनाथ के दर पर बुंदेलखंड क्षेत्र के कोने कोने से हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया है। कहते हैं कि सावन मास में भगवान शिव की उपासना करने से मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। आज प्रथम सोमवार पर सुबह से ही यहां श्रद्धालुओं ने जमढ़ार नदी में स्नान किये और भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। पुजारी द्वारा भगवान शिव का मनोहार श्रृंगार किया गया। यहां दर्शनों के लिये युवतियों में कृष्णा रैकवार, सपना झां, ईश्वरी झां, वंदना यादव आदि ने बताया कि विगत पांच-छह वर्षों से भगवान शिव की उपासना करती आ रही है। सावन माह में वह उपवास रखतीं हैं। इसी प्रकार यहां आये सौरभ खरे, आनंद चौबे, एमपी खरे, काशी प्रसाद, राजा राम यादव सहित अनेक लोगों ने बताया कि सावन सोमवार को पूजा-अर्चना और दर्शनों का लाभ लेने वह पिछले कई सालों से यहां आ रहे हैं। यहां प्रशासन द्वारा सुरक्षा और शांति व्यवस्था बनाने के लिये सावन सोमवार पर विशेष प्रबंध किये गये। उन्होंने बताया कि कुंडेश्वर धाम पर सावन माह में रोशनी के विशेष प्रबंध किये गये है। रात्रि में होने वाली आरती में भी बढ़ी संख्या में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। पुजारी जी द्वारा आरती के पश्चात भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया। ट्रस्ट द्वारा भी दर्शनार्थियों की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।
बाक्स
हर साल चावल के तिनके के बराबर बढ़ रहे शिवलिंग
श्रवण मास के पहले सोमवार के उपलक्ष में आज बुंदेलखंड के प्रत्यक्ष धाम कुंडेश्वर में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा है। आज सुबह 4 बजे ब्रह्म मुहूर्त में श्रद्धालुओं ने कुंडेश्वर पहुंचकर भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना शुरू की सुबह 5 बजे मंदिर प्रबंधन की ओर से वैदिक मंत्रोच्चार के साथ भोलेनाथ का अभिषेक और पूजन किया गया इसके बाद आम श्रद्धालुओं ने भोलेनाथ का जल अभिषेक किया। सावन के महीने में हर साल शिव धाम कुंडेश्वर में हजारों की संख्या में श्रद्धालु पूजा.अर्चना करने पहुंचते हैं सोमवार के दिन सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ लग जाती है। मंदिर प्रबंधन ने भक्तों की भीड़ को देखते हुए पुरुष और महिला श्रद्धालुओं के लिए अलग-अलग व्यवस्था की इसके अलावा भीड़ को व्यवस्थित करने के लिए पुलिस बल भी लगाया गया। मंदिर के पुजारी जमुना तिवारी ने बताया कि सावन के महीने में सुबह 4 बजे से ही भक्तों अभिषेक और पूजन करने पहुंचने लगते हैं। इसके अलावा श्रवण मास में हर दिन तकरीबन दो दर्जन से ज्यादा लोग अभिषेक के लिए मंदिर प्रबंधन से रस्सी लेते हैं। आज तकरीबन पांच हजार से ज्यादा श्रद्धालु सुबह से ही दर्शन के लिए मंदिर पहुंच गए थे। सभी भक्तों को लाइन में लगा कर एक एक कर पूजा अर्चना की व्यवस्था की गई। इस दौरान भक्तों ने बम बम भोले की जय कारा लगाकर भोलेनाथ का जल अभिषेक किया और सुख समृद्धि की कल्पना की।
हर साल बढ़ता है शिवलिंग
कुंडेश्वर धाम में ऐसी मान्यता है कि भगवान भोलेनाथ का शिवलिंग हर साल चावल के तिनके के बराबर बढ़ जाता है बुंदेलखंड में शिव धाम कुंडेश्वर को तेरहवें ज्योतिर्लिंग के रूप में पूजा जाता है सावन के महीने में समूचे बुंदेलखंड शहर देश भर से श्रद्धालु यहां पूजा अर्चना करने आते हैं।