Sunday, July 3, 2022
Homeमध्य प्रदेशशिवराज सरकार के शासन में गंदा पानी पीने को मजबूर प्रशासन मोन

शिवराज सरकार के शासन में गंदा पानी पीने को मजबूर प्रशासन मोन

 

 

शिवराज सरकार के शासन में गंदा पानी पीने को मजबूर प्रशासन मोन

जल विभाग के अधिकारियों को सूचित करने के बावजूद भी अनदेखी कर रहे अधिकारी

टीकमगढ़। दूषित पानी पीना नगर के लोगों की तकदीर बन गई है यहां नाली का पानी नलों में जा रहा कई स्थानों पर पानी जहां बर्बाद हो रहा है तो वहीं कई घरों को पानी नसीब नहीं हो रहा
नल जल सप्लाई में की जा रही मनमानी ने आम लोगों को भीषण गर्मी में पानी को मोहताज कर दिया है बंद कमरों में होने वाली डेट को और मैदानी निरीक्षण ठप होने के कारण पेयजल व्यवस्था होती जा रही है पेयजल व्यवस्था सिद्धांत के पर्याप्त उपाय ना होने से मोहल्ला वासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है
यहां बता दें कि नगर पालिका
पैसा जरूर पूरे माह का लेती हो लेकिन पानी वेमुश्किल 10 दिन ही प्रदाय किया जा रहा है उपभोक्ता और हितग्राहियों के इस शोषण के बारे में अब तक किसी प्रकार की आवाज ना उठाए जाने से लोगों की नाराजगी बनी हुई है बताया गया है कि एक ओर जहां सरकार नल जल योजना चला रही है तो वहीं दूसरी हो शहर के लोग गंदा पानी पीने को मजबूर है
टीकमगढ़ शहर कूड़ेदान मोहल्ले में करीब दो माह से नलों में गंदा पानी आ रहा है जिसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से कई बार की गई लेकिन खानापूर्ति की जाती है लोग गंदा पानी बदबूदार पानी पीने को मजबूर हैं हम बात कर रहे शहर के कुमेदान मोहल्ले की वहां की रहवासियों ने बताया कि पानी की बड़ी समस्या है यहां 2 या 3 दिन में नल आते हैं और नलों में नाली का गंदा पानी और बदबूदार पानी आ रहा है जिसकी शिकायत को संबंधित अधिकारियों से कर चुके हैं लेकिन कार्यवाही के तौर पर केवल खानापूर्ति की जाती है और नलों में गंदा व बदबूदार पानी ही आता है जब हमारे संवाददाता ने नल विभाग के अधिकारी चतुर्वेदी जी से बात की तो उनका कहना है कि हमने नल चेक करवा लिए हैं नल में सही पानी आ रहा है इसके बाद हमारे संवाददाता ने नल विभाग के लाइनमैन और से बुलाकर बात की और पानी चेक करवाया तो उनके सामने भी गंदा पानी और बदबूदार पानी आया आज दिनांक तक प्रशासनिक अधिकारियों की आंखें अभी तक नहीं खुली खुलेगी जब कुमेदान मोहल्ले से हैजा रोग फैलना शुरू होगा। जानकारी के अनुसार मोहल्ले में आधे से अधिक नल कनेक्शन फर्जी तरीके से चल रहे हैं यह जांच का विषय है कि फर्जी कनेक्शन कैसे हुए क्या नल विभाग के कर्मचारी मिले हुए हैं जो फर्जी कनेक्शन बिना अनुमति के कर देते हैं शासन को पता ही नहीं प्रशासनिक अधिकारी इसकी जांच करें लोगों ने पेयजल के बिगड़ते हालातों पर चिंता जाहिर करते हुए जिला प्रशासन से उचित कदम उठाने की मांग की है जिससे बच्चों को फैलने वाली बीमारी पर अंकुश लगाया जा सके।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES