Wednesday, June 29, 2022
Homeउत्तर प्रदेशबांगरमऊ में जल्द शुरू की जायेगी ग्राम न्यायालय न्यायालय

बांगरमऊ में जल्द शुरू की जायेगी ग्राम न्यायालय न्यायालय

बांगरमऊ उन्नाव  

सिविल जज न्यायालय की लंबे समय से चली आ रही मांग पर उच्च न्यायालय खंडपीठ लखनऊ के आदेश पर उत्तर प्रदेश सरकार ने नोटिफिकेशन (विज्ञप्ति) जारी कर बताया की बिल्डिंग का निर्माण कार्य पूरा होते ही बांगरमऊ में सिविल जज न्यायालय का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

तहसील क्षेत्र के ग्राम इस्माइलपुर आंबापारा (कुर्मिनखेड़ा) निवासी उच्च न्यायालय खंडपीठ लखनऊ के वरिष्ठ अधिवक्ता तथा यश भारती सम्मान से सम्मानित प्रमुख समाजसेवी फारूक अहमद एडवोकेट ने 27 अक्टूबर 2014 को उच्च न्यायालय खंडपीठ लखनऊ में एक जनहित याचिका संख्या 10697/2014 दायर कर तहसील बांगरमऊ में ग्राम न्यायालय अधिनियम 2008 के अनुसार ग्राम न्यायालय (सिविल जज) की स्थापना की मांग की थी। जिसमें उच्च न्यायालय ने 8 हफ्ते में जवाब मांगा था जिसके अनुपालन में दिनांक 9 मई 2019 को उत्तर प्रदेश सरकार ने तहसील बांगरमऊ में ग्राम न्यायालय (सिविल जज) स्थापना का निर्णय लिया था। उसके बाद 25 फरवरी 2022 को उत्तर प्रदेश सरकार ने बांगरमऊ में स्थित शहीद जसा सिंह भवन में न्यायालय की स्थापना का निर्णय लेकर आवश्यक निर्माण हेतु 8 लाख 29 हजार रुपये की धनराशि स्वीकृति की। जिसकी प्रथम किस्त के रूप में 4 लाख 14 हजार की धनराशि भी आवंटित कर दी। उसके बाद 12 मार्च 2022 को उत्तर प्रदेश सरकार ने बांगरमऊ में ग्राम न्यायालय (सिविल जज) न्यायालय के लिए नोटिफिकेशन (विज्ञप्ति) जारी कर दिया कि जैसे ही बिल्डिंग का निर्माण कार्य पूरा होगा बांगरमऊ में सिविल जज न्यायालय का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। मालूम हो कि बांगरमऊ क्षेत्र के विकास के लिए फारूक अहमद एडवोकेट ने तमाम ऐतिहासिक कार्य कराए हैं जिसके चलते उन्हें क्षेत्र में विकास पुरुष के नाम से जाना जाता है। ग्राम न्यायालय (सिविल जज) न्यायालय की स्थापना के बाद क्षेत्र के लोगों को जनपद मुख्यालय नहीं जाना पड़ेगा। न्यायालय की स्थापना कराए जाने के लिए फारूक अहमद एडवोकेट की नगरऔर क्षेत्र में खूब प्रशंसा की जा रही है।

अनिल यादव TV भारत/the penpal news नेटवर्क बांगरमऊ उन्नाव उत्तर प्रदेश

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES