Sunday, July 3, 2022
Homeउत्तर प्रदेशतरावीह की नमाज में कुरान मजीद मुकम्मल होने के मौके पर मिलाद...

तरावीह की नमाज में कुरान मजीद मुकम्मल होने के मौके पर मिलाद शरीफ का आयोजन

बांगरमऊ उन्नाव
नगर के मोहल्ला गुलाम मुस्तफा (गोल कुआँ) स्थित हुसैनी मस्जिद में शुक्रवार की रात को तरावीह की नमाज में कुरान मजीद मुकम्मल होने के मौके पर मिलाद शरीफ का आयोजन किया गया जिसमें नबी की शान में बयान करने के साथ ही रमजान की फजीलत भी बयान की गई। इस मौके पर मौलाना गुलाम नबी सैफी ने लोगों को खिताब करते हुए कहा कि रमजान उल मुबारक का यह महीना साल के तमाम महीनों का सरदार है इसी महीने में कुरान मजीद नाजिल हुआ। रमजान के मुबारक महीने में जन्नत के दरवाजे खुल जाते हैं और जहन्नम (दोजक) के दरवाजे बंद हो जाते हैं।
उन्होंने बताया कि रमजान का मुबारक महीना आने वाले रमजान के महीने तक होने वाले गुनाहों का कफ़्फ़ारा है। इस मुबारक महीने में नफ़्ल नमाज़ का सवाब दूसरे महीनों के फ़र्ज़ नमाज़ के बराबर हो जाता है, और फ़र्ज़ नमाज का सवाब दूसरे महीनों के 70 फर्ज के बराबर हो जाता है। रमजान उल मुबारक वह अजीम महीना है जिसमें मोमिन का रिज़्क़ बढ़ा दिया जाता है।
कारी व हाफिज मोहम्मद दिलशाद ने कहा कि रमजान शरीफ के रोजे हर बालिग मुसलमान मर्द, औरत पर फर्ज हैं, सिवाय पागल, नाबालिग और मुसाफिर या कोई बीमार हो या हैज वाली औरत। बीमार को चाहिए कि जब वह सेहतयाब हो जाए तो छूटे हुए रोजे रखे और मुसाफिर को चाहिए कि सफर खत्म होने पर कजा रोजे रखे। हाफिज मोहम्मद यूसुफ ने अपने खिताब में कहा कि रमजान के तीन अशरा हैं। पहला अशरा (पहले 10 दिन) ये अशरा रहमत का है। दूसरा अशरा (दूसरे 10 दिन) यह अशरा मगफिरत का है। तीसरा अशरा (तीसरे 10 दिन) ये असरा जहन्नम से निजात का है। तरावीह की नमाज में कुरान पढ़ाने वाले मौलाना, कारी व हाफिज मोहम्मद वसीम ने शबे कद्र की फजीलत बयान करते हुए कहा की कुरान व हदीस में बहुत कसरत से बयान हुए हैं। कुरान मजीद में शबे कद्र को हजार महीनों से अफजल बताया गया है। नबी पाक ने शबे क़द्र की तलाश पांच ताक रातों में करने को कहा है यानी 21,23, 25, 27 व 29 की शब को। प्रोग्राम में नातिया कलाम भी पढ़े गए और फातिहा में मुल्क में अमन-चैन, तरक्की व खुशहाली की दुआएं भी मांगी गईं। इस मौके पर हुसैनी मस्जिद के पेश इमाम मौलाना गुलाम गौस, मस्जिद के मुतवल्ली हबीबुलरहमान बाबूजी, समाजसेवी फजलुर्रहमान, आशिक अली, शब्बीर बाबू, अशफाक, अब्दुल कादिर, शमशाद हाशमी, हाजी गुलाम अयाज़ रहमा, नईमुल्ला, आमिर, जान मोहम्मद, अनीसुर्रहमान गोलू, इमरान, मुकीम, हाजी गुड्डू, जुबेर खान सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे।

अनिल यादव TV भारत/the penpal news नेटवर्क बांगरमऊ उन्नाव उत्तर प्रदेश

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES