Tuesday, June 28, 2022
Homeउत्तर प्रदेशजब बाजार तय करती है डीजल पेट्रोल गैस के दाम तो पेट्रोलियम...

जब बाजार तय करती है डीजल पेट्रोल गैस के दाम तो पेट्रोलियम मंत्रालय को भंग कर देना चाहिए: अखिलेश यादव

महंगाई पर बोलते हुए अखिलेश:कहा- ईधन के बढ़ते दामों पर जब सरकारी नियंत्रण नहीं तो इस मंत्रालय को तत्काल भंग कर देना चाहिए

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बढ़ती महंगाई को लेकर केंद्र और प्रदेश सरकार पर हमला बोला है। अखिलेश ने तंज कसते हुए कहा कि ईधन के बढ़ते दामों पर जब न कोई सरकारी नियंत्रण, शासन, न प्रशासन, न प्रबंधन, न ही नियमन है और जब सब कुछ बाजार के हवाले ही है तो फिर पेट्रोल, डीजल, गैस का मंत्रालय किसलिए है। इस मंत्रालय को तत्काल प्रभाव से भंग कर देना चाहिए। भाजपाई- महंगाई जनता को निरंतर ईधन से निर्धन कर रही है। आम आदमी बढ़ती मंहगाई से बुरी तरह प्रभावित हो रहा है उसका दिन प्रतिदिन का जीवन यापन करना मुश्किल होता जा रहा है। लेकिन सरकार बाजार का बहाना करके बच रही है अभी कही चुनाव होते तो दाम कम हो गए होते । 22 मार्च से 10 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो चुकी है।तेल कंपनियों ने 19 दिन के भीतर 14 बार पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) के भाव बढ़ाए हैं। जिसके बाद दिल्ली में 22 मार्च से 6 अप्रैल तक पेट्रोल क्रमश: 80, 80, 80, 80, 50, 30, 80, 80, 80, 80, 80, 40, 80 और 80 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ है। जबकि 7, 8 और 9 अप्रैल को कीमतें स्थिर हैं। अब तक पेट्रोल-डीजल की कीमत में10 रुपये प्रति लीटर का इजाफा किया जा चुका है।

अर्जुन तिवारी TV भारत/the penpal news नेटवर्क उन्नाव उत्तर प्रदेश

 

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES