Sunday, June 26, 2022
Homeउत्तर प्रदेशफिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार की मौन स्वीकृति से हो रहा...

फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार की मौन स्वीकृति से हो रहा है महंगाई विस्फोट

बढ़ती महंगाई से लगातार आम आदमी परेशान है सरकार किशोर नजर उठाकर भी देखना नहीं चाहती।

राज्यसभा में आम आदमी सांसद संजय सिंह ने महंगाई पर बोलते हुए कहा कि सरकार और महंगाई का अजब गजब रिश्ता है चुनाव आते ही सरकार महंगाई को दूर कर देती है पेट्रोल-डीजल, सीएनजी, पीएनजी दामों पर कटौती हो जाती है और चुनाव होने के बाद सरकार महंगाई को फिर वापस बुला लेती है पेट्रोल डीजल गैस के दामों को बढ़ने के लिए।

सरकार यह भी बताएं कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में जब तेल और गैस के दाम कम होते हैं तो सरकार क्यों नहीं फिर गैस के दाम कम करते हैं चुनाव का इंतजार ही क्यों करती है।

तेल कंपनियों ने आज फिर पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी की है। पेट्रोल के दाम 75 से 84 पैसे तक बढ़े हैं तो डीजल के दाम भी 76 से 85 पैसे तक बढ़े हैं।

सरकार के राजनीतिक विरोधियों का आरोप था कि पांच राज्यों के चुनाव के कारण मोदी सरकार ने तेल कंपनियों को मूल्य बढ़ाने से रोक रखा था। जानकारी अनुसार अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 112 डॉलर प्रति बैरल पहुंचने के बाद रविवार को तेल कंपनियों ने डीजल के थोक खरीदारों के लिए मूल्य में 25 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। तेल डीलरों का कहना है कि खुदरा मूल्य में धीरे-धीरे वृद्धि की जाएगी।

दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 103.41 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल 94.67 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 118.41 रुपये व डीजल की कीमत 102.64 रुपये प्रति लीटर है।

तेल और गैस कंपनियां मनमाफिक दामों को भूनने के लिए उपभोक्ताओं का खून चूसने लगी है। इससे आम जनमानस परेशान होने लगा है माल ढुलाई और यातायात भी महंगे हो गया है जिसके चलते आम आदमी को घर चलाना मुश्किल हो रहा है।

अर्जुन तिवारी TV भारत/the penpal news नेटवर्क उन्नाव उत्तर प्रदेश

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES