Sunday, July 3, 2022
Homeउत्तर प्रदेशUp:जुमे की नमाज के बाद यूपी सहित देश के कई स्थानों पर...

Up:जुमे की नमाज के बाद यूपी सहित देश के कई स्थानों पर जमकर बवाल और पथराव

Lucknowभाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता के तौर पर एक टीवी डिबेट में पैगंबर साहब पर विवादित टिप्पणी देने के बाद देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के मुस्लिमों ने रोष व्यक्त किया। इसका असर ये हुआ कि मुस्लिम देशों से भारत सरकार नाराजगी भी जाहिर की। कानपुर में जुलूस के दौरान पथराव हो गया और हिंसा भउ़क गई।इसके बाद आज यानी 10 जून 2022 जुमे की नमाज के बाद सिर्फ यूपी में ही नहीं बल्कि पूरे देश में मुस्लिमों ने नाराजगी जाहिर की। पूरे प्रदेश में पुलिस और प्रशासन हाई अलर्ट पर रहा।कानपुर शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है। नमाज के बाद कानपुर, प्रयागराज, सहारनपुर, बरेली समेत प्रदेश के कई जिलों में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन किया।प्रयागराज में पुलिस ने सख्ती दिखाई तो प्रदर्शनकारियों ने पथराव कर दिया।

भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता के पद पर रहते हुए नुपूर शर्मा ने पैगंबर-ए-इस्लाम के खिलाफ विवादित बयान दिया था। इसे लेकर पूरे देश के मुस्लिमों ने नाराजगी जाहिर की।खाड़ी देशों के साथ ही 57 मुस्लिम देशों के संगठन ओआईए ने भी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कार्रवाई के लिए कहा। इस पर सरकार ने तो कोई कार्रवाई नहीं की लेकिन भाजपा ने उन्हें निलंबित कर दिया। इसके बाद कानपुर में हिंसा भड़क गई।इसमें 50 से अधिक आरो​पियों को अरेस्ट करके जेल भेज दिया गया है तो मुस्लिमों ने इसे पक्षपात पूर्ण कार्रवाई बताया। इसके बाद जुमे की नमाज के बाद भी यूपी सहित देश के तमाम हिस्सों में प्रदर्शन हुए। दिल्ली से कानपुर ट्रेन से पहुंचे बशीर सर्किट हाउस में रुके हुए थे। पुलिस ने उन्हें वहां से बाहर भेज दिया है।

प्रयागराज-देवबंद में पथराव

10 जून यानी जुमे की नमाज के बाद देवबंद में भी पथराव हो गया। पुलिस ने आठ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया।वहीं प्रयागराज में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पथराव कर दिया।पुलिस न पत्थरबाजों को खदेड़ा। आंसू गैस के गोले भी दागे। रैपिड एक्शन को बुला लिया।

लखनऊ के संवेदनशील स्थानों पर रही पुलिस की नजर

प्रदेश की राजधानी लखनऊ पर पुलिस की नजर रही. पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर के मुताबिक पुराने शहर को 37 सेक्टर में बांटा गया है. हर सेक्टर का प्रभारी भी पुलिस अधिकारी को नियुक्त किया गया है। इस इलाके में 61 संवेदनशील स्थान भी चिह्नित किए गए हैं। पुलिस के अफसरों ने दोनों धर्म के जिम्मेदारों से बातचीत कर शांति बनाए रखने की अपील की।

वाराणसी भी सबसे ज्यादा संवेदनशील शहरों में शामिल है।वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर में चल रहे मामलों के बीच मुस्लिम समाज के जिम्मेदार लोगों ने आम जनता के साथ ही युवाओं से भी संयम और सतर्कता बरतने की अपील की है। जमीयत के नाम पर फैलाई जा रही अफवाहों का भी खंडन करते हुए इसे सिरे से खारिज किया है। वहीं अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी ने जुमे की नमाज के लिए सीमित संख्या में ही लोगों से आने की अपील की।

बरेली में जुमे की नमाज को लेकर अलर्ट

बरेली में आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा ने 10 जून को धरने का एलान किया था लेकिन बाद में इसे वापस ले लिया गया । फिर भी कानपुर की घटना से सबक लेते हुए जुमे की नमाज को लेकर शहर में पुलिस अलर्ट है। पूरे शहर में जगह-जगह पुलिस फोर्स तैनात रहा, मुस्लिम बाहुल्य इलाका पुराना शहर में डीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसएसपी रोहित सिंह सजवाण भ्रमण करते रहें।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES