Tuesday, June 28, 2022
Homeमध्य प्रदेशपहले बदान तोड़ कर पानी निकाला और जमीन को समतल कर बेच...

पहले बदान तोड़ कर पानी निकाला और जमीन को समतल कर बेच रहे प्लाट ,और बनाए जा रहे मकान

जिला ब्यूरो / मनोज सिंह

 

निजी संपत्ति बताकर बेच रहे राजशाही तालाब
पहले बदान तोड़ कर पानी निकाला और जमीन को समतल कर बेच रहे प्लाट ,और बनाए जा रहे मकान।

टीकमगढ़। शहर के बीचोबीच बना सेल सागर तालाब इन दिनों अतिक्रमण की चपेट में है पिछले कई सालों से यहां लोगों ने अवैध तरीके से मकान का निर्माण शुरू कर लिया लेकिन प्रशासन की ओर से अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है हैरानी की बात तो यह है कि इस तालाब को निजी संपत्ति बताकर बेचा जा रहा है बावजूद इसके राजस्व विभाग मौन है।
राजशाही दौर में करीब 100 साल पहले लोगों की प्यास बुझाने के लिए सेल सागर तालाब का निर्माण कराया गया था तालाब के चारों ओर सुंदर बदान और मंदिर का निर्माण भी कराया गया था पहले तो लोगों ने तालाब की बदान पर सबसे पहले कब्जा किया और मकान बना लिया।
फिर धीरे-धीरे तालाब के अंदर मकान बनाने का सिलसिला शुरू हो गया वर्तमान तालाब के अंदर और चारों ओर मिलाकर करीबन 200 से ज्यादा अवैध तरीके से मकान का निर्माण कर लिया गया है।
अवैध कब्जा करने वालों के खिलाफ जमीन का मकान बनाने संबंधी कोई दस्तावेज नहीं के स्थान पर अवैध तरीके से की जा रही है पिछले एक दशक से तालाब की जमीन बेचने का सिलसिला जारी है लेकिन इस पूरे मामले में प्रशासन पूरी तरह से उदासीन बना हुआ है इस दौरान कुछ लोगों ने तालाब बेचने की शिकायत जिला प्रशासन से की फिर राजेश और नजूल विभाग के कार्य ने अब तक कोई कार्यवाही नहीं की इसके अलावा इस तालाब में आसपास के गंदे नाले छोड़ दिए गए।
बारिश के मौसम में तालाब में बड़ी मात्रा में पानी जमा हो जाता है जिससे तालाब के अंदर बने मकानों में पानी भरने लगता है इसलिए तालाब बेच रहे उन्होंने भू माफियाओं ने तालाब की बदान को तोड़ दिया है। ताकि तालाब में पानी का भराव ना हो सके और धीरे-धीरे समतल कर बेचा जा सके इस मामले में एसडीएम सीपी पटेल का कहना है मामले की जांच कार्यवाही की जा रही है।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES