Sunday, July 3, 2022
Homeमध्य प्रदेशफर्जी स्वास्थ विभाग कर्मचारी बनकर नौकरी लगवाने के नाम पर की ठगी

फर्जी स्वास्थ विभाग कर्मचारी बनकर नौकरी लगवाने के नाम पर की ठगी

जिला ब्यूरो/ मनोज सिंह

फर्जी स्वास्थ विभाग कर्मचारी बनकर नौकरी लगवाने के नाम पर की ठगी

टीकमगढ़। तालदरवाजा निवासी सुनील नामदेव स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी पर नौकरी दिलाने के नाम पर 2,97,000/रूपये लेकर धोखाघड़ी करने के आरोप लगाए गए हैं जिसको लेकर उनके द्वारा टीकमगढ़ पुलिस अधीक्षक के नाम आवदेन सौंपा गया है जिसमें बताया गया है कि आवेदक तालदरबाजा टीकमगढ़ म.प्र. का निवासी है। आवेदक की पत्नी सुधा नामदेव आशा कार्यकर्ता है। दिनांक 18.04.2022 को आवेदक के मोबाईल पर अनावेदक ने अपने से फोन लगाकर बात की और कहा कि बह स्वास्थ विभाग टीकमगढ़ में पदस्थ हैँ नाम अमित तिवारी बताया गया था फ़ोन पर बताया गया है कि स्वास्थ विभाग में सुपर वाइजर की नियुक्ति होना है, यदि तुम्हें अपनी पत्नी की सुपर वाइजर में नौकरी लगवानी है, तो उससे मिले अनावेदक के द्वारा आवेदक की पत्नी से उसके मोबाईल पर भी बातचीत की गई थी। तब आवेदक, अनावेदक से कलेक्ट्रेट के बाहर मिला तो अनावेदक बोला कि 2 लाख रूपये में तुम्हारी पत्नी को सुपर वाइजर बनवा देगा व 6 मई तक उनकी नियुक्ति हो जायेगी। पत्नी के सारे दस्तावेज व 50 हजार रूपये तत्काल मांगे गए। तब आवेदक ने दिनांक 25.04.2022 को अनावेदक को दिगौड़ा के पहले पेट्रोल पंप के पास 50 हजार रूपये नगद व कागजात देना बताया गया है जिसके बाद अनावेदक के द्वारा कहा गया कि तुम लाख रूपये और दे दो। भोपाल में बड़े अधिकारी को भिजवाने है। तब आवेदक के द्वारा दिनांक 27.04.2022 को 98 हजार रूपये नगद नये बस स्टैण्ड टीकमगढ़ के पास अनावेदक को देना बताया है। इस अंतराल में अनावेदक ने आवेदक को बताया कि 4 जगह हरिजन महिला के लिये आरक्षित है अगर तुम्हारे संपर्क में कोई हो तो बह उसकी भी नौकरी लगवा देगा। तब आवेदक ने अपने मित्र विजय अहिरवार निवासी-कुमरयाना कुँवरपुरा से संपर्क किया और तब विजय ने भी अपनी पत्नी गीता अहिरवार की नौकरी के लिये 70 हज़ार रूपये नगद व दस्तावेज जतारा बाईपास जतारा के पास अनावेदक को दिये थे, जिसकी वीडियोग्राफी आवेदक के द्वारा कर ली गई थी। जिसके बाद अनावेदक के द्वारा गीता अहिरवार के बकाया रूपये की मांग करने पर दिनांक 02.05.2022 को 20 हजार रूपये, दिनांक 03.05.2022 को 30 हजार रूपये, दिनांक 04.05.2022 को 20 हजार रूपये, दिनांक 05.05.2022 को 9 हजार रूपये अपने बैंक के माध्यम से अनावेदक द्वारा बताये गये बैंक खाता जो कि विजय भान के नाम से जमा करवाये थे। जिसके बाद आवेदक ने अनावेदक से फोन पर संपर्क किया तो उसने कहा कि वह भोपाल में है तुम्हारा काम 6 तारीख तक हो जावेगा किन्तु 6 तारीख निकलने के बावजूद भी जब कोई नियुक्ति नहीं हुई तो उसने अनावेदक को दिनांक 07.052022 को फोन लगाया तो उसने कहा कि दिनांक 15.05.2022 तक काम हो जावेगा। इस बीच में आवेदक ने दिनांक 09.05.2022 को भी अनावेदक बातचीत की जिसकी रिकॉर्डिंग आवेदक के द्वारा कर ली गई थी। जिसके बाद संपर्क करने पर अनावेदक का मोबाईल बंद बता रहा है तब आवेदक ने स्वास्थ विभाग कलेक्ट्रेट में जाकर संपर्क किया तो वहाँ विभाग वालों ने बताया कि इस नाम का कोई भी व्यक्ति इस विभाग में कार्य नहीं करता है। अनावेदक ने आवेदक के साथ नौकरी दिलाने का झांसा देकर 2,97,000,/रूपये ठग लिये है। आवेदन पत्र के साथ अनावेदक के साथ हुई बातचीत की सी.डी. प्रस्तुत की गई है अनावेदक के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही किये जाकर आवेदक को उसके रूपये वापिस दिलाये जाने की मांग की हैं।

आपकी राय

Sorry, there are no polls available at the moment.
RELATED ARTICLES